आओ हँस लें

आओ हँस लें

Tuesday

सिर्फ गाल बजाएँगे


कहते हैं सब
ये राजनीति वोटों तक ही नही सीमित होनी चाहिए
उससे आगे भी जानी चाहिए
तुम्हारी जाति क्या है
क्या है तुम्हारा मजहब
अगड़े हो क्या
या मनुवादी , या फिर
पिछड़ा
उससे भी पिछड़ा
महा पिछड़ा
दलित
उससे भी दलित
महा दलित
और इन सबका कुछ न कुछ आरक्षण
शब्द बदलते गए
आदमी वहीं का वहीं
राजनीति मे भूचाल आ गया
उसने उसे खीच लिया
उसकी पहुँच उनके बीच अच्छी है
वो सुबह गए
मैं शाम को जाता हूँ
वो रो कर आए थे
मैं उनके घर रात बिता कर आता हूँ
चारपाई मे बैठ कर
दाल भात खाता हूँ
ये देश किसका है
शायद किसी का नहीं
देश द्रोह की परिभाषाएँ बदल गई
बोलने की आज़ादी
मूलभूत अधिकार ही  रह गए याद
देश खो गया
सत्ता की कुर्सी रह गई आँखों के सामने
देश कहाँ  गया
भाई इन्हें सत्ता मे रहने दो
नही तो वो दिन दूर नहीं जब ये
सब कुछ भूल जाएंगे
वोटों के लिए ईमान ही नहीं बेचेंगे
माँ भी पड़ोसियों को दे आएंगे
उनकी कहकर
और सब मिलकर गाल बजाएँगे
सिर्फ गाल बजाएँगे

-कुशवंश

8 comments:

  1. आपने लिखा...
    कुछ लोगों ने ही पढ़ा...
    हम चाहते हैं कि इसे सभी पढ़ें...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना दिनांक 04/03/2016 को पांच लिंकों का आनंद के
    अंक 231 पर लिंक की गयी है.... आप भी आयेगा.... प्रस्तुति पर टिप्पणियों का इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete
  2. क्या बात है !.....बेहद खूबसूरत रचना....

    ReplyDelete
  3. बेहेतरिन अभिव्यक्ति बढ़िया रचना हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  4. बहुत बेहेतेरिन .

    ReplyDelete
  5. सुन्दर शब्द रचना
    नव बर्ष की शुभकामनाएं
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete