आओ हँस लें

आओ हँस लें

Monday

हे राम ....



हम गांधी है 
हमको और ना गोली मारो 
हमने कही पुराणी बातें 
उनको फूटी आँख निहारो .. गोली मारो 
टोपी पहनो 
खादी पहनो 
धोती आधी-आधी पहनो 
जो भी  अपनी बात न माने
उनपर ये चप्पल फटकारो .. गोली मारो 
मुन्नी मिश्रित भजन बनाओ 
डी के बोस सी  गाली गाओ
उल-जुलूल आदर्श परोशो, अमर हो जाओ ..गोली मारो  
निर्मल मन में 
दारू की कामना जगाओ 
मेरी ही समाधी पर बंधू 
पीकर आओ  
हमने जो अनशन सिखलाया 
उसको अपनी ढाल बना, चीखो चिल्लाओ 
मै बापू 
होशो हवास में शपथपूर्वक 
ज्ञापन देता हूँ 
जो भी मेरे  बेटे है.. सब   तथाकथित  
उनको अपना नाम  प्रयोग वर्जित करता हूँ 
सच कहता हूँ 
किये गए उनके कर्मों से 
प्रतिदिन मारा हुआ , 
फिर भी मरता हूँ 
अब चैन से सोने दो 
मत पिता बनाओ 
मुझको बस...! 
मोहन दास करमचंद रहने दो ...


-कुश्वंश 

2 comments: